अर्जुन विश्वास ने खोली निकाय चुनाव की राजनैतिक पोल, पढ़े पूरी ख़बर

avatar

Reported by Awaaz Desk

On 23 Sep 2020
अर्जुन विश्वास ने खोली निकाय चुनाव की राजनैतिक पोल, पढ़े पूरी ख़बर

पूरे देश में कोरोना काल अपने चरम पर है, कोरोना महामारी ने आम और खास सभी के जीवन में खासा प्रभाव डाला है।  कोरोना काल में कोरोना वायरस ने जीवन चक्र को प्रभावित किया है। सभी के साथ उत्तराखंड में सोई कांग्रेस पर भी कोरोना ने अपना बड़ा प्रभाव डाला है। उत्तरखंड प्रदेश में कोरोना काल में जागते हुए तीव्र रवैया दिखाते हुए सड़क से संसद तक प्रदेश की भाजपा सरकार को घेरने का काम किया है।  मुद्दा कोई भी हो कांग्रेस के प्रत्येक कार्यकर्त्ता ने भाजपा की नीतियों का विरोध करते हुए आम जनमानस का ध्यान अपनी और आकर्षित किया है। एकबार फिर उत्तराखंड के सबसे हॉटसीट मानी जाने वाली रुद्रपुर विधानसभा सीट के जिला मुख्यालय पर भाजपा से निकाय चुनाव में पार्षद का चुनाव लड़ चुके और बीजेपी के बाग़ी कांग्रेस में शामिल युवा कांग्रेसी अर्जुन विश्वास ने भी भाजपा सरकार के वरिष्ठ नेताओं और विधायकों को शब्दों के बाण से घेरने का काम किया है। इस सिलसिले में आवाज़ उत्तराखंड के जिला प्रभारी तपस विश्वास ने सिलसिले वार तरीके से कुछ खास बातचीत की। आइये, प्रश्नों के माध्यम से आपको समझाते है कि कैसे अर्जुन विश्वास ने भाजपा पर क्या आरोप लगाए है। 


१- प्रश्न (तपस विश्वास) : लम्बे समय से भाजपा के कार्यकर्त्ता के रूप में आप काम कर रहे थे और भाजपा के टिकट पर अपने वार्ड का प्रतिनिधित्व करते हुए चुनाव भी लड़ा अचानक भाजपा का दामन छोड़कर कांग्रेस में क्यों शामिल हुए ? 


१-उत्तर (अर्जुन विश्वास) : मैंने लम्बे समय से भाजपा की निस्वार्थ सेवा की है और भाजपा के हर कार्यक्रम में अधिक से अधिक भीड़ जुटाने का कार्य कियाहै, लेकिन प्रदेश के मुखिया त्रिवेंद्र सिंह रावत की कथनी और करनी में बहुत बड़ा अंतर है। उत्तराखंड मुख्यमंत्री प्रदेश की आम जनता से विकास के नाम पर सिर्फ झूट बोल रहे है और झूठे वाडे कर रहे है, जिससे आम जनमानस त्रस्त है। इस वक्त देश के साथ हमारा प्रदेश भी कोरोना की महामारी से झूझ रहा है। लेकिन प्रदेश सरकार इस और व्यवस्थाएं करने में नाकाम सबित हो रही है। लॉक डाउन लगने से कई लोगों के रोज़गार छीन गए है। उन लोगों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है, लेकिन राज्य सरकार उन लोगों के लिए व्यवस्थाएं बनाने में नाकामयाब साबित हुई है। महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है। मुख्य सड़कों से लेकर महानगर में हर वार्ड में सड़कों का बुरा हाल है और प्रदेश में भेज[प् सरकार लगातार विकास होने के दावे कर रही है।


बात मेरे चुनाव भाजपा से टिकट पर निकाय चुनाव लड़ने की, मैं कहना चाहूंगा कि मुझे चुनाव हराने में ट्रांजिटकैंप क्षेत्र के और बंगाली समाज का प्रतिनिधित्व करने वाले एक बड़े भाजपा नेता ने साजिश के तहत चुनाव हराया था। उन्होंने अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए अपने एक चहिते पार्षद को चुनाव जिताने के लिए उस वक्त कांग्रेस से चुनाव लड़ रहे वार्ड 2 के कांग्रेस प्रत्याशी से गठबंधन किया था, इसी साजिश के तहत मुझे उन्होंने चुनाव हराया था। 


२- प्रश्न (तपस विश्वास) : क्षेत्रीय विधायक से आपके राजनैतिक अच्छे सम्बन्ध थे, फिर भी आपने भाजपा का दामन छोड़ दिया। आखिर क्यों ?


२-उत्तर (अर्जुन विश्वास) : क्षेत्रीय विधायक ने मेरे कहने पर मेरे क्षेत्र में थोड़ा बहुत विकास किया है, पर वह विकास के नाम पर अक्सर झूट का सहारा लेते हैं। उनका वयवहार भी जनता के प्रति सकारात्मक नहीं है। विधायक से क्षेत्र की जनता ऊब चुकी है। क्योंकि वह क्षेत्र का विकास करने में फिस्सडी साबित हुए है। आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता उनको मुँह तोड़ जवाब देगी। विधायक के नकारात्मक व्यवहार के कारण ही उनका और मेरा साथ छूट गया। मैंने हमेशा जनता की सेवा की है और हमेशा करता रहूँगा। 


कांग्रेस नेता अर्जुन विश्वास की बातों से बहुत कुछ साफ़ हो गया है कि कैसे भाजपा के अंदर भी अंतरकलह है। कैसे अपने स्वार्थ के लिए नेता अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं को चुनाव में निजी स्वार्थ के लिए हरवा देते है। बरहाल, जो भी हो अर्जुन विश्वास के दावों की माने तो उत्तराखंड में आगामी चुनाव में भाजपा के लिए खतरे की घंटी बज सकती है। भाजपा को समय रहते इससे सम्भलना होगा और धरातल पर अपनी कथनी और करनी को सामानांतर उतारना होगा। 





0 0