उत्तराखंड- आज फिर से नैनीताल जिले में कोरोना के 55 मरीज मिले, आज प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पहुँची 100, कुल आंकड़ा पहुँचा 97234   |   उत्तराखंड बिग ब्रेकिंग:कुमाऊं और गढ़वाल के बाद गैरसैंण उत्तराखंड का बनेगा तीसरा मण्डल सीएम ने की घोषणा   |   मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भराड़ीसैंण (गैरसैंण) में बजट पेश करने के दौरान कुछ महत्वपूर्ण घोषणाएं की   |   उत्तरप्रदेश ब्रेकिंग:सीएम योगी के नाम लिखा सुसाइड नोट और दरोगा ने मार ली खुद को सर्विस रिवॉल्वर से गोली मौके पर ही हुई मौत   |   नैनीताल : राज्य मंत्री तरुण बंसल पहुंचे नैनीताल ज़ोरदार स्वागत के बाद बंसल ने किया कार्यभार ग्रहण   |   नैनीताल : जानलेवा बीमारी ब्रेस्ट कैंसर से महिलाओं को जागरूक करने के लिए 8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर पिंक पतंगों पिंक ड्रेसेज़ के साथ निकलेगी महिला बाइक रैली   |   नैनीताल:हर घर की पहचान बेटियों के नाम अभियान के तहत सभासद और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने हर घर के बेटी को नेम प्लेट्स के साथ दिया सम्मान   |   हरिद्वार : जूना अग्नि और किन्नर अखाड़े ने करी अपनी धर्म ध्वजा स्थापित आज भव्य रुप से नगर में करेंगे भ्रमण   |   ओफ्फो!अपनी बेटी के प्रेम संबंधों से नाराज़ पिता बेटी का कटा हुआ सिर लेकर पहुंचा थाना और बोला मैंने कुंडी बन्द की और काट दिया बेटी का सिर   |  




कलिंग इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी ( केआईआईटी ) को 'द अवार्ड एशिया' सम्मान देकर किया गया सम्मानित

avatar

Reported by Awaaz Desk

On 28 Nov 2020
कलिंग इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी ( केआईआईटी ) को 'द अवार्ड एशिया' सम्मान देकर किया गया सम्मानित

भारत के ओडिशा राज्य के भुवनेश्वर में  स्थित कलिंग इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी केआईआईटी डीम्ड विश्वविद्यालय को  टाइम्स ऑफ हायर एजुकेशन ने "द अवार्ड्स एशिया" दिया है। ये अवार्ड विवि को 17 नवंबर को दिया गया,केआईआईटी ने ये अवार्ड  ‘वर्कप्लेस ऑफ द ईयर’ वर्ग में हासिल कर न केवल राज्य बल्कि पूरे देश का नाम रौशन किया है। 


आपको बता दें कि इस तरह का मान्यता प्राप्त करने वाला यह भारत का एकमात्र संस्थान है,इस संस्थान में कर्मचारी और छात्र अपने उदारतापूर्ण, तरक्की एवं अपनी वचनबद्धता के लिए पूरे देश मे जाने जाते हैं। केआईआईटी  को अपने विकेंद्रीकृत शासन के लिए जाना जाता है, जिसमें प्रमुख कर्मचारियों को पर्याप्त स्वायत्तता प्रदान की जाती है और उनके कार्यों को पूरा करने की शक्ति प्रदान की जाती है। यह एकमात्र स्व-वित्तपोषित विश्वविद्यालय है जो परिवारवाद के वर्चस्व से ऊपर है,यहां किसी भी तरह के पक्षपात की कोई गुंजाइश नही है सभी वरिष्ठ अधिकारी सुप्रसिद्ध शिक्षाविद हैं और उन्हें चुने जाने की प्रक्रिया पारदर्शितापूर्ण है।


कर्मचारी-वर्ग एवं फैकल्टी के सभी सदस्यों ने इसका सारा श्रेय अपने संस्थापक, डॉ अच्युता सामंता को दी है। डॉ. सामंता ने वित्तीय और प्रशासनिक दोनों पहलुओं में स्वतंत्रता के साथ बेझिझक काम करने पर बहुत महत्व दिया है,उन्होंने एक माहौल और कार्यसुधारक-प्रणाली बनाई है जहां फैकल्टी और कर्मचारी उन्मुक्त मन से अपना कार्य कर सकते हैं। परिणामस्वरूप, के.आई.आई.टी. अपनी स्थापना के समय से ही छात्रों, माता-पिता, कर्मचारीवर्ग एवं पर्यावरण के अनुकूल परिसर रहा है। यह निर्णायकमण्डल कई अनुभवी व्यक्तित्च को लेकर बनाया गया है, जिन्होंने देश के सैकड़ों संस्थानों का मूल्यांकन किया और छात्रों, शिक्षकों, शोधकर्ताओं और स्थानीय समुदायों के बीच गहन सर्वेक्षण करने के उपरांत ही के.आई.आई.टी. को विजेता घोषित किया।

0 0

Leave a Comment

Kanchan Verma

Reported by Kanchan Verma

On 16 Feb 2021

नैनीताल:शायद आप यकीन ना करें लेकिन पूरे भारत मे नैनीताल के वासु भनोट के साथ हुई थी आश्चर्यजनक घटना टाइम ट्रैवल कर छाए रहे सुर्खियों में
Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 14 Feb 2021

यहां से वहां एक मौत पर ट्वीट करने वाला किसानों की मौत पर मौन है