निर्माण कार्यों में हो रहे गड़बड़झाले से मेयर रामपाल का पारा चढ़ा सातवें आसमान पर

avatar

Reported by Tapas Vishwas

On 18 Oct 2020
निर्माण कार्यों में हो रहे गड़बड़झाले से मेयर रामपाल का पारा चढ़ा सातवें आसमान पर

महानगर रुद्रपुर के नगर निगम ठेकेदारों का शहर में निर्माण कार्यों के दौरान मानकों की अनदेखी और गड़बड़झाले का सिलसिला इन दिनों काफी सुर्ख़ियों में है। नगर निगम के ठेकेदार निगम द्वारा विकास कार्यों में अक्सर धांदली और अनदेखी की शिकायत पर महानगर रुद्रपुर नगर निगम के मेयर रामपाल ने धरातल पर उतरकर निर्माण कार्यों का जायज़ा लिया। इस दौरान निर्माण कार्यों में अनदेखी और गड़बड़झाले को देख मेयर रामपाल का गुस्सा सातवें आसमान पर जा पहुंचा। उन्होंने निरिक्षण के दौरान ठेकेदार और काम कर रहे कर्मचारियों को फटकार लगते हुए निर्माण कार्यों में गड़बड़झाले पर ब्लैक लिस्टेड करने की चेतावनी दे डाली। 


ताज़ा मामला उधम सिंह नगर रुद्रपुर के ट्रांजिटकैंप वार्ड नंबर 4 का है। जहाँ नाले के निर्माण में मानकों की अनदेखी पर मेयर रामपाल सिंह का पारा चढ़ गया। उन्होंने निर्माण करा रहे ठेकेदार को कड़ी फटकारऔर लताड़ लगाते हुए नाले को तोड़कर दुबारा बनाने का आदेश जारी किया। साथ ही उन्होंने ठेकेदार को इस गड़बड़झाले में ब्लैक लिस्टेड करने की कार्रवाई करने के निर्देश नगर निगम के अधिकारियों को दिये।


दरअसल, रुद्रपुर नगर निगम के वार्ड नंबर 4 ट्रांजिटकैंप निवासी मोहन के घर से वीरेन्द्र सागर के घर तक 7 लाख की लागत से नाले का  निर्माण नगर निगम द्वारा कराया जा रहा है। नाले के निर्माण का टेंडर ठेकेदार इसरार मियां को दिया गया है। ठेकेदार द्वारा नाले के निर्माण में अनियमितता और गड़बड़झाले की शिकायत किसी ने मेयर रामपाल को फोन के माध्यम से की, तो मेयर रामपाल मौके का जायज़ा लेने के लिए स्कूटी पर सवार होकर अकेले ही मौका मुआयना करने पहुँच गए। मौके पर जाकर निर्माण कार्यों का जब निरीक्षण किया तो निर्माण में घटिया सामग्री और गड़बड़झाले की शिकायत सही पायी गयी। जिस पर मेयर का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया। उन्होनें ठेकेदार को जमकर फटकार लगते हुए नाले को तोड़कर दुबारा बनाने के आदेश दिये। साथ ही नगर निगम के एई गजेन्द्र पाल से ठेकेदार को नगर निगम से ब्लैक लिस्टेड करने को भी कहा।  मेयर ने ठेकेदार को यह भी कहा कि इस निर्माण को पूरा करने के बाद नगर निगम में दोबारा नजर मत आना। इतना ही नहीं उन्होंने ठेकेदार को हिदायत देते हुए जब काम नहीं करवा पाने पर ठेकेदारी छोड़ देने की नसीहत दे डाली। 


मेयर ने कहा कि मैं भ्रष्ट नहीं हूँ और वह किसी ठेकेदार से कोई भी कमीशन नहीं लेता हूँ। इसलिए मैं निर्माण कार्य में पारदर्शिता के साथ कराने के लिए हमेशा प्रतिबद्ध हूँ। नगर निगम के कार्यों में जहां भी अनियमितताएं की शिकायत मिलेंगी उन शिकायतों को गंभीरता से लेता हूँ। उन्होंने साफ स्पष्ट करते हुए यह भी कहा कि जो ठेकेदार अब तक मनमानी करते आ रहे है अब वह मेरे रहते हुए अपनी मनमानी नहीं कर सकेंगे और जो विकास कार्यों के लिए पैसा आया है उस एक एक पैसे को विकास कार्यों में खर्च होना होगा।  इस दौरान मेयर रामपाल ने लोगों से अपील की कि जहां भी निर्माण कार्यों में घटिया सामग्री और गड़बड़झाले दिखे तो उन्हें तुरंत सूचना देकर अवगत कराने की बात कही।

0 0