उत्तराखंड- आज फिर से नैनीताल जिले में कोरोना के 55 मरीज मिले, आज प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पहुँची 100, कुल आंकड़ा पहुँचा 97234   |   उत्तराखंड बिग ब्रेकिंग:कुमाऊं और गढ़वाल के बाद गैरसैंण उत्तराखंड का बनेगा तीसरा मण्डल सीएम ने की घोषणा   |   मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भराड़ीसैंण (गैरसैंण) में बजट पेश करने के दौरान कुछ महत्वपूर्ण घोषणाएं की   |   उत्तरप्रदेश ब्रेकिंग:सीएम योगी के नाम लिखा सुसाइड नोट और दरोगा ने मार ली खुद को सर्विस रिवॉल्वर से गोली मौके पर ही हुई मौत   |   नैनीताल : राज्य मंत्री तरुण बंसल पहुंचे नैनीताल ज़ोरदार स्वागत के बाद बंसल ने किया कार्यभार ग्रहण   |   नैनीताल : जानलेवा बीमारी ब्रेस्ट कैंसर से महिलाओं को जागरूक करने के लिए 8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर पिंक पतंगों पिंक ड्रेसेज़ के साथ निकलेगी महिला बाइक रैली   |   नैनीताल:हर घर की पहचान बेटियों के नाम अभियान के तहत सभासद और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने हर घर के बेटी को नेम प्लेट्स के साथ दिया सम्मान   |   हरिद्वार : जूना अग्नि और किन्नर अखाड़े ने करी अपनी धर्म ध्वजा स्थापित आज भव्य रुप से नगर में करेंगे भ्रमण   |   ओफ्फो!अपनी बेटी के प्रेम संबंधों से नाराज़ पिता बेटी का कटा हुआ सिर लेकर पहुंचा थाना और बोला मैंने कुंडी बन्द की और काट दिया बेटी का सिर   |  




लॉकडाउन में गर्लफ्रेंड से हुआ ब्रेकअप, डिप्रेशन को हराकर 21 साल के लड़के ने खोला ‘दिल टूटा आशिक’ कैफे

avatar

Reported by Anuj Awasthi

On 21 Jan 2021
लॉकडाउन में गर्लफ्रेंड से हुआ ब्रेकअप, डिप्रेशन को हराकर 21 साल के लड़के ने खोला ‘दिल टूटा आशिक’ कैफे

देहरादून- प्यार में टूटकर बहुत से आशिक बिखर जाते हैं। देहरादून के 21 वर्षीय दिव्यांशु बत्रा भी टूट गए थे। लेकिन जल्द ही उन्होंने खुद को संभाल लिया। दरअसल, लॉकडाउन के दौरान जब दुनिया अकेलेपन का साथी ढूंढ रही थी तब इस नौजवान का ब्रेकअप हो गया था। यह मोहब्बत हाई-स्कूल वाली थी। आप समझते होंगे कि इस उम्र में जब दिल टूटता है तो खाना क्या, बंदा अरिजीत सिंह के गाने सुनना भी छोड़ देता है। दिव्यांशु 6 महीनों तक डिप्रेस्ड रहे और ज्यादा से ज्यादा पबजी खेलने लगे। लेकिन एक दिन उन्होंने फैसला किया कि वो अब ऐसे नहीं जीएंगे और एक कैफे खोल लिया। 

दरअसल 6 महीने तक डिप्रेस्ड रहने के बाद दिव्यांशु ने फैसला किया कि वो अब और शोक नहीं मनाएंगे। उन्होंने एक कैची (आकर्षक) नाम के साथ ऐसा कैफे खोलने का सोचा, जो उनके टूटे दिल की कहानी कहे जिससे लोग खुद को जोड़ सकें।दिव्यांशु ने कहा मां मेरा साथ देती हैं। पर पापा कैफे के नाम से खुश नहीं थे। लेकिन जब एक दिन उनका दोस्त जो इस बात से अंजान था कि वह कैफे मेरा है, उसने कैफे के खाने और उसके माहौल की तारीफ की। तब जाकर मेरे पापा भरोसा हुआ कि मैं कुछ अच्छा कर रहा हूं।


कैफे खोलने की वजह के बारे में दिव्यांशु ने कहा मैं चाहता था कि लोग मेरे कैफे में आए और अपनी ब्रेकअप की कहानियां शेयर करें। ताकि मैं उस दुख से बाहर निकलने में उनकी मदद कर सकूं और वह जिंदगी में आगे बढ़ सकें। मैं इसमें सफल हो रहा हूं। क्योंकि अब लोग कैफे का नाम देखकर आ रहे हैं। साथ ही अपनी ब्रेकअप की कहानियां भी मेरे साथ शेयर करते हैं। फिलहाल, दिव्यांशु अपने छोटे भाई राहुल बत्रा के साथ कैफे संभाल रहे हैं।

0 0

Leave a Comment

Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 4 Mar 2021

नैनीताल जिला पूरे देश मे बना पहला ऐसा जिला जहाँ के हर घर अब बेटियों के नाम से जाने जा रहे हैं
Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 4 Mar 2021

अखाड़े की पेशवाई पूरे राजसी वैभव के साथ पांडेवाला ज्वालापुर से नगर भ्रमण पर निकलेगी
Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 3 Mar 2021

हरिद्वार कुम्भ को लेकर निरीक्षण करने पहुंचे मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत
Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 3 Mar 2021

अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मीडिया सेंटर से कुम्भ की कवरेज में होगी आसानी: मुख्यमंत्री
Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 3 Mar 2021

ग्रीन कुम्भ मेले की कल्पना को साकार करने के लिये सफाई व्यवस्था पर दिया जाये विशेष ध्यान