23 मार्च ! शहीद दिवस जो बन गया भारत का गौरवशाली इतिहास अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ खड़ी हुई थी भगतसिंह सिंह की फौज जिन्होंने देशवासियों को माना था अपना परिवार

avatar

Reported by Awaaz Desk

On 23 Mar 2021
23 मार्च ! शहीद दिवस जो बन गया भारत का गौरवशाली इतिहास अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ खड़ी हुई थी भगतसिंह सिंह की फौज जिन्होंने देशवासियों को माना था अपना परिवार

भारत अपने गौरवशाली इतिहास के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। यह देश उन वीरों की धरती है, जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए न तो अपने जीवन की परवाह की और न ही परिवार की। उनके लिए देशवासी ही परिवार थे। ऐसे ही महान क्रांतिकारी थे भगतसिंह, राजगुरु और सुखदेव, जिन्हें  23 मार्च, 1931 को फांसी दे दी गई थी।


आज का दिन इन तीन क्रांतिकारियों को शहीद दिवस के रूप में समर्पित किया जाता है और 23 मार्च को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है। 8 अप्रैल 1929 के दिन ‘पब्लिक सेफ्टी’ और ‘ट्रेड डिस्प्यूट बिल’ के विरोध में ‘सेंट्रल असेंबली’ में बम फेंका गया था। जैसे ही बिल संबंधी घोषणा की गई तभी भगत सिंह ने बम फेंका। हालांकि उन्होंने बम को खाली जगह पर फेंका, जिससे किसी को कोई नुकसान न हो। भगत सिंह ने सिर्फ अपनी आवाज अंग्रेजी हुकूमत तक पहुंचाने के लिए यह रास्ता चुना था। इसके बाद क्रांतिकारियों को गिरफ्तार करने का दौर चला। भगत सिंह और बटुकेश्र्वर दत्त को आजीवन कारावास मिला।


गिरफ्तारी के बाद अदालती आदेश के मुताबिक भगतसिंह, राजगुरु और सुखदेव को 24 मार्च, 1931 को फांसी लगाई जानी थी, लेकिन लोगों के आक्रोश और विद्रोह की आशंका को देखते हुए अंग्रेजी हुकूमत ने 23 मार्च, 1931 को ही इन तीनों को देर शाम फांसी लगा दी गई और शव को रातों रात ले जाकर सतलुज नदी के किनारे जला दिए गए।


भगत सिंह क्रांतिकारी देशभक्त ही नहीं बल्कि एक अध्ययनशीरल विचारक, कलम के धनी, दार्शनिक, चिंतक, लेखक, पत्रकार और महान मनुष्य थे। उन्होंने 23 वर्ष की छोटी-सी आयु में फ्रांस, आयरलैंड और रूस की क्रांति का विषद अध्ययन किया था। हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी, संस्कृत, पंजाबी, बंगला और आयरिश भाषा के मर्मज्ञ चिंतक और विचारक भगतसिंह भारत में समाजवाद के पहले व्याख्याता थे।

Leave a Comment

Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 21 Apr 2021

कोरोना काल में ही बनाया गया है वायरल वीडियों नैनीताल निवासी कर रहे है कार्यवाही की मांग
Tapas Vishwas

Reported by Tapas Vishwas

On 19 Apr 2021

मुख्य चिकित्साधिकारी व नोडल अधिकारी के साथ कार्यालय में की आवश्यक बैठक
Tapas Vishwas

Reported by Tapas Vishwas

On 19 Apr 2021

सिडकुल में हादसों का कुआं बन चुके दुर्गा फाइबर कंपनी के अग्निकांड का बड़ा खुलासा
Tapas Vishwas

Reported by Tapas Vishwas

On 15 Apr 2021

आत्महत्या का गढ़ बन चुके ट्रांजिट कैम्प से फिर आया आत्महत्या का मामला प्रकाश में
Tapas Vishwas

Reported by Tapas Vishwas

On 14 Apr 2021

कई बार बड़ी घटना होने के बाद भी प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी क्यों हैं मौन
Tapas Vishwas

Reported by Tapas Vishwas

On 13 Apr 2021

बढ़ते कोरोना मामलो को देखते हुए प्रदेश के सचिवालय से जारी हुए आदेश,
Awaaz Desk

Reported by Awaaz Desk

On 12 Apr 2021

पिछले 24 घण्टो में कोरोना की दूसरी लहर के आंकड़ों का ग्राफ तेज़ी से बढ़ा
Tapas Vishwas

Reported by Tapas Vishwas

On 11 Apr 2021

सिड़्कुल से सटे ट्रांजिट कैम्प में माटी के दलालों ने पूर्व पटवारी के नाम पर जमकर की लूट,