नैनीताल: जहाँ मौसम ही होता सैनिकों का सबसे बड़ा दुश्मन, वहां 38 साल पहले शहीद हुए थे हल्द्वानी निवासी कुमाऊं रेजिमेंट के लांस नायक चंद्रशेखर! 38 साल बाद मिले पार्थिव शरीर का पूरे राजकीय सम्मान के साथस्वतंत्रता दिवस पर होगा अंतिम संस्कार!

पूरा देश आजादी का 75वा अमृत महोत्सव मना रहा है। स्वतंत्रता दिवस के दिन देश के शहीदों को याद किया जाता है उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। नैनीताल जिले में आजादी के महापर्व पर शहादत के 38 वर्ष बाद शहीद लांस नायक चंद्रशेखर का पार्थिव शरीर ग्लेशियर में भारतीय सेना को मिला है जिनका अंतिम संस्कार बिना पार्थिव शरीर के 38 वर्ष पहले किया गया था। 
हल्द्वानी धनमिल के रहने वाले चंद्रशेखर हर्बोला भारतीय सेना की कुमाऊं रेजिमेंट में थे,29 मई 1984 को दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध स्थल सियाचिन ग्लेशियर पर पहली बार पैदल पार कर भारतीय सेना की पहली यूनिट 19 कुमाऊं रेजिमेंट ऑपरेशन मेघदूत के दौरान एक बर्फ अविलांच पर 20 जवान शहीद हो गए थे उनमें से 5 जवानों के पार्थिव शरीर खोजने पर भी नही मिल सके थे। यहां मौसम ही सैनिकों का सबसे बड़ा दुश्मन माना जाता है। मौसम की मार से सन 84 के बाद अब तक भारत के हज़ार के करीब सैनिक शहीद हो चुके है।
पूरे 38 साल बाद भारतीय सेना को उसी ग्लेशियर में चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर मिला है।शरीर अब कंकाल में तब्दील हो चुका है जिसके पास आइडेंटिटी डिस्क मिली जिसमे आर्मी नम्बर लिखा हुआ था, एल्युमिनियम की इस डिस्क में लांस नायक चंद्रशेखर हर्बोला नाम लिखा था। 

ये खबर जैसे ही शहीद चंद्रशेखर के परिजनों को मिली उनकी आंखें नम हो गयी लेकिन सिर गर्व से ऊंचा हो गया। ये खबर पूरे जिले में फैल गयी। जिस वक्त चंद्रशेखर हर्बोला शहीद हुए थे उनकी उम्र मात्र 30 वर्ष थी और उनकी दो बेटियां उम्र में बहुत छोटी थी । आज उनकी पत्नी 60 वर्ष की हो चुकी है बच्चे भी बड़े हो चुके है। बच्चों ने पिता की बहादुरी के किस्से सुने थे,उन्हें अब पिता को छूने का सम्मान मिल सकेगा।
शहीद चंद्रशेखर के पार्थिव शरीर को कल सुबह 15 अगस्त के दिन उनके आवास हल्द्वानी लाया जाएगा और पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।